हरिद्वार समाचार– हरिद्वार में आयोजित हो रहे कुंभ में बुधवार को पहली पेशवाई निकाली गयी। तपोनिधि श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी व आनन्द अखाड़े के नागा सन्यासियों व संतों ने भव्य पेशवाई के रूप में निरंजनी अखाड़े की छावनी में प्रवेश किया। राजसी अंदाज में निकली पेशवाई में अखाड़े के आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष व निंरजनी अखाड़े के श्रीमहंत नरेंद्र गिरी, निंरजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रविन्द्रपुरी, श्रीमहंत रामरतन गिरी, आनन्द पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरी सहित कई प्रमुख संत शामिल रहे। एसएमजेएन कालेज के मैदान में स्थित अस्थाई छावनी से भव्य रूप स निकाली गयी पेशवाई में शामिल नागा सन्यासियों का जगह जगह भव्य स्वागत किया गया। पेशवाई का शुभारंभ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ंिसंह रावत, केंद्रीय मंत्री महामण्डलेश्वर साध्वी निरंजन ज्योति, श्रीराम जन्म भूमि न्यास के सदस्य युगपुरूष स्वामी परमानन्द गिरी, जयराम पीठाधीश्वर स्वामी बह्मस्वरूप ब्रह्मचारी व निरंजनी व आनंद अखाड़े के संतों ने पूजा अर्चना के बाद पेशवाई का शुभारंभ किया। इस दौरान जिला अधिकारी सी.रविशंकर, मेला अधिकारी दीपक रावत, अपर मेला अधिकारी हरबीर ंिसह, एसएमजेएन कालेज से शुरू हुई पेशवाई शंकर आश्रम, सिंहद्वार, कनखल, शंकराचार्य चैक, तुलसी चैक, शिवमूर्ति होते हुए निंरजनी अखाड़े में जाकर संपन्न हुई।
पेशवाई में शामिल नागा सन्यासियों व संत महापुरूषों के दर्शन करने के लिए सड़क के दोनों और श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रही। संतों के दर्शन करने के लिए पूरे पेशवाई मार्ग पर छतों पर भी लोग जमा रहे। श्रद्धालुओं ने भक्ति और श्रद्धाभाव से सड़क के दोनों ओर खड़े होकर नागा संन्यासियों पर पुष्पवर्षा कर आशीर्वाद भी प्राप्त किया। पेशवाई पर पैरा ग्लाइडर से की जा रही पुष्पवर्षा शहरवासियों के लिए आकर्षण का केंद्र रही।
पेशवाई में परम्परा के अनुसार हाथी, घोड़े और बैंड बाजों के साथ निरंजनी व आनन्द अखाड़े के आचार्य महाण्डलेश्वर, श्री महंत, महंत, महामंडलेश्वर और नागा साधुओं ने शिरकत की। पेशवाई में सबसे आगे अखाड़े की धर्म ध्वजा लहरा रही थी। धर्म ध्वजा के पीछे निरंजनी अखाड़े के आराध्य भगवान कार्तिकेय की पालकी चल रही थी। इसके पीछे नागा संन्यासी अपने अस्त्र-शस्त्रों के साथ पेशवाई के बीच में जगह-जगह रुककर युद्ध कौशल का प्रदर्शन कर रहे थे।
निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज ने बताया कि नागा सन्यासियों के अखाड़े की छावनी में प्रवेश के साथ कुंभ मेला संपन्न होने तक सभी संत छावनी में ही और कुंभ के दौरान पड़ने वाले प्रमुख स्नान पर्वों पर शाही स्नान करेंगे।
निरंजनी अखाड़े की पेशवाई के लिए कुंभ मेला पुलिस द्वारा सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। पेशवाई मार्ग पर पुलिस, पीएसी व रैपिड एक्शन फोस के जवानों को तैनात किया गया था। कुंभ मेला आईजी संजय गुंज्याल, मेला एसएसपी जनमेजय खण्डूरी, जिले के पुलिस कप्तान सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस, एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय सहित तमाम वरिष्ठ अधिकारी खुद सुरक्षा इंतजामों की निगरानी में जुटे रहे।
पेशवाई में ये संत रहे शामिलः-म.म.संतोषी माता, श्रीमहंत लखनगिरी, श्रीमहंत दिनेश गिरी, श्रीमहंत ओंकार गिरी, महंत नरेश गिरी, श्रीमहंत सागरानंद सरस्वती, श्रीमहंत शंकरानंद सरस्वती, श्रीमहंत गिरजानंद सरस्वती, श्रीमहंत रामरतन गिरी, स्वामी आनन्द गिरी, महंत मनीष भारती, महंत राधेगिरी, स्वामी ललितानंद गिरी, महंत राजेंद्र भारती, महंत रामानंद पुरी, स्वामी चिदविलासानंद, दिगंबर गंगा गिरी, दिगंबर बलवीर पुरी, दिगंबर राजेश गिरी, महंत नीलकंठ गिरी, स्वामी आलोक गिरी, दिगंबर आशुतोष पुरी, स्वामी रघुवन, स्वामी रविवन, स्वामी मधुरवन, श्रीमहंत भैरो गिरी, श्रीहरि गोविंदपुरी, महंत केशवपुरी, दिगंबर राकेश गिरी, महंत सुखदेव पुरी, दिगंबर अमित पुरी सहित बड़ी संख्या में संत महापुरूष शामिल रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.