।उखीमठ/ रूद्रप्रयाग
विश्व प्रसिद्ध 11वें ज्योर्तिलिंग श्री केदारनाथ धाम के कपाट इस यात्रा वर्ष शुक्रवार 6 मई प्रात: 6 बजकर 25 मिनट पर वृश्चिक लग्न में खुलेंगे। जबकि भगवान श्री केदारनाथ जी की पंचमुखी उत्सव डोली 2 मई को पंचकेदार गद्दी स्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ से केदारनाथ धाम को प्रस्थान करेगी जबकि 1 मई को भैरवनाथ जी की पूजा की जायेगी।
डोली 2 मई गुप्तकाशी,3 मई फाटा,4 मई गौरीकुंड 5 मई को पंचमुखी डोली श्री केदारनाथ धाम पहुंचेगी।
6 मई शुक्रवार प्रात: 6 बजकर 25 मिनट पर श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलेंगे।
पंचकालीन गद्दीस्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में शिवरात्रि के पावन अवसर पर आयोजित संक्षिप्त धार्मिक समारोह में रावल भीमाशंकर की उपस्थिति में पूजा- अर्चना,पंचाग गणना के पश्चात यात्रा वर्ष 2022 हेतु श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि घोषित हुई। इस अवसर पर श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय, केदारनाथ रावल भीमाशंकर लिंग, निवर्तमान विधायक मनोज रावत,मंदिर समिति उपाध्यक्ष किशोर पंवार, मंदिर समिति सदस्य, श्रीनिवास पोस्ती, आशुतोष डिमरी, भास्कर डिमरी, उपजिलाधिकारी उखीमठ जितेंद्र वर्मा, केदार सभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला तहसीलदार दीवान सिंह राणा, विशेष कार्याधिकारी राकेश‌ सेमवाल, मंदिर समिति के अधिकारी- कर्मचारीगण एवं गणमान्य क्रमशः – पूर्व कार्याधिकारी अनिल शर्मा गिरीश देवली, आर. सी. तिवारी, राजकुमार नौटियाल, यदुवीर पुष्पवान,डा. हरीश गौड़, विपिन‌ तिवारी,अनिल भट्ट, पुजारी शिवशंकर लिंग, बागेश‌ लिंग, शिव लिंग, वेदपाठी स्वयंबर सेमवाल, यशोधर मैठाणी, विश्वमोहन जमलोकी,आशाराम नौटियाल, डा. हर्ष वर्धन बेंजवाल देवी प्रसाद तिवारी, गणेश पंवार पुष्कर रावत, मनोज शुक्ला, राकेश थपलियाल सहित शिव सिंह रावत,प्राचार्य विनोद प्रसाद सिमल्टी, गद्दी पुरोहित जय प्रकाश शुक्ला गद्दी तीर्थ पुरोहित अध्यक्ष अमित शुक्ला, अनूप पुष्पवान, हक हकूकधारी, पंचगाई तीर्थ‌ पुरोहित एवं जनप्रतिनिधि गण मौजूद रहे। मुख्य कार्याधिकारी बी.डी.सिंह ने श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि तय होने पर सभी श्रद्धालुओं का आभार जताया है। दानीदाताओ प्रेम रस्तोगी ग्रुप दिल्ली ने भंडारा आयोजित कर प्रसाद वितरित किया। बड़ी संख्या में श्रद्धालु जन दर्शन के लिए पहुंचे।कार्यक्रम में कोरोना बचाव मानकों का पालन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.