हरिद्वार समाचार-उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बिजनौर से लेकर बलिया तक गंगा किनारे स्थित सभी गांव में रोजाना सूर्योदय और सूर्यास्त पर गंगा आरती शुरू किए जाने की व्यवस्था की अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने सराहना की है। अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा है कि पतित पावनी मां गंगा जहां जहां से भी होकर कर गुजरती है। वहां वहां के सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्री को यह व्यवस्था शुरू कर देनी चाहिए। उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी पूरी कैबिनेट बधाई के पात्र है। श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज ने कहा कि इससे गंगा स्वच्छता अभियान को बल मिलेगा और गंगा प्रदूषण मुक्त होगी। उन्होंने कहा कि इससे भारतीय धर्म, संस्कृति, परंपरा का विकास होगा और नई पीढ़ी का इसमें विश्वास बढ़ेगा। श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज ने कहा कि गंगा आरती होने के कारण लोगों में अपने आप गंगा की स्वच्छता और उसमें गंदगी न किए जाने की भावना विकसित होगी। इससे गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के सरकारी अभियान को बल मिलेगा। उन्होंने इसके लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि उनका यह कदम पर्यावरण विशेषकर नदी, जल, पर्यावरण सुरक्षा के लिए प्रभावी कदम है। इससे अन्य राज्यों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए। श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज ने कहा कि गंगा भारतीय धर्म संस्कृति का द्योतक होने के साथ-साथ जीवनदायिनी भी है, जिसके तट पर भारतीय सभ्यता और संस्कृति ने विकास किया है। उन्होंने आह्वान किया कि गंगा की पवित्रता और निर्मलता हम सबकी जिम्मेदारी है और हमें इसके लिए सदैव प्रयत्नशील रहना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.