हरिद्वार– अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने संजीवनी हॉस्पिटल पहुंचकर कमल कल्याण आश्रम के अध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद गिरी महाराज के स्वास्थ्य की जानकारी ली और उन पर किए गए हमले की घोर निंदा करते हुए हमलावर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। उन्होंने कहा कि धर्मनगरी में एक वरिष्ठ संत के ऊपर जानलेवा हमला देवभूमि की गरिमा को ठेस पहुंचाने वाला है। संतो को अपनी सुरक्षा का ध्यान रखना चाहिए। पुलिस ऐसे हमलावर के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई कर उसे कड़ी सजा दे। चेतन ज्योति आश्रम के अध्यक्ष स्वामी ऋषिश्वरानन्द महाराज ने कहा कि महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद गिरि महाराज सरल और शांत स्वभाव के संत हैं। ऐसे मधुर भाषी सरल संत पर जानलेवा हमला बहुत चिंता का विषय है। किसी भी व्यक्ति को अपना विश्वास पात्र बना लेने के बारे में भी संतो को विचार करने की आवश्यकता है। आज देवभूमि में कई शिष्य आश्रम की संपत्ति के लालच में अपने गुरुओं की हत्या तक करने पर उतारू है। जिससे गुरु शिष्य परंपरा कलंकित हो रही है। पुलिस प्रशासन को ऐसे दुष्ट व्यक्ति पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। महंत निर्मल दास महाराज ने कहा कि युवा संतो को गुरु शिष्य परंपरा का पालन करते हुए अपने गुरुजनों का सम्मान करना चाहिए ना कि ऐसा कायरता पूर्ण कृत्य कर संत परंपरा को ठेस पहुुंचाना चाहिए। संत समाज ऐसे कार्यों की घोर निंदा करता है और भगवान से प्रार्थना करता है कि महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद गिरि महाराज जल्द स्वस्थ हों। पूर्व पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, कोठारी महंत जसविन्दर सिंह, स्वामी रविदेव शास्त्री, स्वामी हरिहरानंद, महंत दिनेश दास, स्वामी ऋषि रामकृष्ण, महंत शिवानंद, महंत सूरज दास, महंत अरुण दास, महंत श्रवण मुनि, महंत सुतीक्ष्ण मुनि, स्वामी हरिनारायणानंद, महंत रघुवीर दास, महंत विष्णुदास, महंत बिहारी शरण, महंत रामदास, महंत गोविंद दास, महंत प्रह्लाद दास, सहित सभी संत महापुरुषों ने महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद गिरि महाराज पर हमले की घोर निंदा करते हुए पुलिस से हमलावर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.