हरिद्वार- श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल की छावनी में जंगली हाथियों के आवागमन से स्थानीय संत और लोगों में रोष बना हुआ है। छावनी के महंत निर्भय सिंह महाराज का कहना है कि वन विभाग की लापरवाही के कारण जंगली हाथियों का झुंड रोज छावनी में घुस जाता है और सारी फसल का नुकसान हाथियों द्वारा कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जंगली हाथियों के झुंड ने छावनी परिसर में बनी हुई दीवारों को भी तोड़ दिया है। जिससे अखाड़े की संपत्ति का काफी नुकसान हुआ है।। हाथियों के आवागमन के कारण कभी भी कोई अप्रिय घटना घटित हो सकती है।जंगली हाथियों को रोकने वाली दीवार का कार्य पूरा नहीं हो पा रहा है। श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल कई बार इस विषय में वन विभाग को अवगत करा चुका है। उन्होंने मांग की है कि अखाड़े की संपत्ति और फसल की भरपाई की जाए और जंगली हाथियों के प्रवेश को रोकने के लिए ठोस उपाय किए जाएं। महंत निर्भय सिंह महाराज ने कहा कि छावनी परिसर में बड़ी संख्या में लोग निवास करते हैं और बच्चे ट्यूशन और स्कूल के लिए आते जाते रहते हैं। लोगों की गाड़ियां भी परिसर में ही खड़ी रहती हैं। जंगली हाथियों के आवागमन से लोगों एवं बच्चों को लगातार खतरा बना हुआ है। लेकिन वन विभाग इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। । ज्ञानी महंत खेम सिंह, महंत अमनदीप सिंह, संत गुरजीत सिंह, संत जसकरण सिंह, संत सुखमण सिंह, संत तलविंदर सिंह, संत विष्णु सिंह, संत हरजोध सिंह, संत सिमरन सिंह आदि ने भी वन विभाग की लचर कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए रोष प्रकट किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.