हरिद्वार समाचार-अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानून वापस लिए जाने की घोषणा करने पर उनका आभार जताया है। प्रैस को जारी बयान में अखाड़ा परिषद अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज ने कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है। अन्नदाता किसान ही देश की दशा और दिशा तय करता है। कृषि कानून लागू होने के बाद किसानों में लगातार रोष बना हुआ था और वह लंबे समय से आंदोलनरत थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस फैसले के बाद देश की एकता और अखंडता कायम रहेगी और किसानों को सरकारी योजनाओं के और अधिक लाभ प्राप्त होंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश लगातार उन्नति कर रहा है और मोदी सरकार समाज के हर वर्ग को साथ लेकर कार्य कर रही है। किन्ही कारणों द्वारा किसानों और सरकार के बीच सामंजस्य स्थापित ना होने के कारण किसान आंदोलन करने को मजबूर हो गए थे। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कृषि कानून वापस लेने के फैसले के बाद अब किसानों और सरकार के बीच आपसी सामंजस्य स्थापित होगा और सरकारी योजनाओं का लाभ किसानों को प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव की जयंती पर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा जो किसानों को तोहफा दिया गया है। उसके लिए समस्त संत समाज प्रधानमंत्री को आशीर्वाद देता है और उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.