देहरादून 09 अगस्त –  मंथन सभागार वन विभाग 85 राजपुर रोड देहरादून में माननीय मंत्री, पशुपालन, दुग्ध विकास एवं मत्स्य पालन गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग, प्रोटोकॉल कौशल विकास एवं सेवायोजन उत्तराखण्ड सरकार सौरभ बहुगुणा की अध्यक्षता में चिन्तन शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में कौशल विकास एवं सेवायोजन विभाग की कार्य नीतियों और कार्य योजनाओं एवं आगामी वर्षों के रोड मैप को लेकर गहन चर्चा की गयी। चिन्तर शिविर में विजय कुमार यादव, सचिव, कौशल विकास एवं सेवायोजन,  विनोद गोस्वामी, निदेशक ( प्रशिक्षण)/परियोजना निदेशक, उत्तराखण्ड कौशल विकास समिति, हरवीर सिंह, निदेशक सेवायोजन तथा अन्य अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

मा0 मंत्री द्वारा निर्देश दिये गये कि वर्ष 2025 तक जब हमारा राज्य 25 वर्ष का होगा तब विभाग का उद्देश्य अधिक से अधिक युवाओं को आई टी आई एवं लघु अवधि प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्यम से प्रशिक्षित कर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना है। माननीय मंत्री जी द्वारा गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण दिये जाने पर विशेष बल दिया गया। प्रशिक्षण उपरांत रोजगार उपलब्ध कराना ही समस्त कौशल प्रशिक्षण योजनाओं का मुख्य उद्देश्य होना चाहिए तथा इसी आधार पर प्रशिक्षण प्रदान करने वाली संस्थाओं को चयन होना चाहिए। माननीय मंत्री ने कौशल प्रशिक्षण योजनाओं का अधिक से अधिक प्रचार प्रसार किये जाने तथा प्रशिक्षण के दौरान युवाओं को औद्योगिक इकाइयों में में प्रशिक्षण प्रदान किये जाने के निर्देश दिए। साथ ही वर्ष 2025 तक राज्य की समस्त राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों का उच्चीकरण कर उनमें राष्ट्रीय स्तर का प्रशिक्षण प्रदान करते हुए उद्योगो की मांग के अनुरूप उन्नत बनाने हेतु जोर दिया गया। कौशल विकास विभाग के अन्तर्गत राज्य के युवाओं हेतु सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना की जा रही है जो विभाग एवं उधोगो की संयुक्त साझेदारी के माध्यम से विकसित किये जा रहे हैं। सी ओ ई के माध्यम से उच्च गुणवत्ता एवं उद्योगों की मांग के अनुकूल स्किल मैन पॉवर तैयार की जायेगी। वर्तमान में इलैक्ट्रिकल, मैनुफैक्चुरिंग एवं टेक्सटाइल के क्षेत्रों में सी ओ ई स्थापित किये जाने की प्रक्रिया गतिमान है। विभागीय मंत्री द्वारा विभागीय सचिव को निर्देश दिये गये है कि दोनो विभागों में समन्वय स्थापित कर प्रशिक्षार्थियों को ओ.जे.टी एवं अप्रेन्टिस हेतु गन्ना विभाग के अन्तर्गत संचालित चीनी मिलों में भेजा जाए तथा गन्ना विभाग के विभागीय अधिकारियों द्वारा माह में दो बार राजकीय संस्थानों में गेस्ट लेक्चर दिया जाए। माननीय मंत्री जी द्वारा यह भी निर्देश दिये गये है कि प्रत्येक वर्ष राज्यों के समस्त राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों से 25 मेधावी प्रशिक्षार्थियों को राष्ट्रीय स्तर के संस्थानों में भ्रमण कराया जाय।
माननीय मंत्री द्वारा चिंतन शिवरि में दिए गए प्रमुख निर्देशों में गन्ना क्षेत्रफल में वृद्वि, गुणवत्ता में सुुधार के प्रभावी प्रयास किये जाय।जैविक गन्ने एवं जैविक उत्पादकों को प्रोत्साहित किये जाय।चीनी मिल डोईवाला/नादेही/बाजपुर/किच्छा/सितारगंज के द्वारा आगामी पेराई सत्र 2022-23 में कृषकों के गन्ना मूल्य की धनराषि अधिक से अधिक चीनी मिल स्तर से भुगतान किये जाने का प्रयाय किया जाये तथा राज्य सरकार द्वारा दी जाने वाली अनुदान की धनराशि में कमी लायी जाय।चीनी मिलों में पेराई सत्र के दौरान कृशकों के रहने, शौचालय, पेयजल एवं पंचर बनाने वाले आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। चीनी मिल बाजपुर में बी-हैवी मोलासेस आधरित 100 के0एल0पी0डी0 एथेनाॅल प्लांट की पी0पी0पी0 मोड पर स्थापना हेतु त्वरित कार्यवाही की जाय।चीनी मिल सितारगंज को दीर्घकालिक लीज पर दिये जाने सम्बन्धी कार्यवाही षीघ्रता से पूर्ण की जाय।चीनी मिलों के आगामी पेराई सत्र 2022-23 में चीनी उत्पादन/गन्ना पेराई के दौरान तकनीकी बन्दियां मानकों से अधिक न हो, इस हेतु प्रभावी प्रयास किये जाय। गन्ना परिवहन ठेकेदारों से क्रय केन्द्रों में उपलब्ध गन्ने को 24 घण्टे के अन्दर उठान कराया जाना सुनिश्चित किया जाय। गन्ना परिवहन हेतु आहूत की जाने वाली ई-निविदा में प्रतिभाग करने वाले निविदादाताओं की क्षमता के आधार पर ही क्रय-केन्द्रों का आवंटन किया जाय।
इइस अवसर पर नोडल अधिकारी कौशल विकास समिति उपनिदेशक सेवायोजन श्रीमती चन्द्रकांता, संयुक्त निदेशक यू.के डब्ल डी पी  जे.एम नेगी, संयुक्त निदेशक प्रशिक्षण  अनिल कुमार त्रिपाठी, संयुक्त निदेशक गढ़वाल मण्डल  अनिल गुसाई, उपनिदेशक मंगल अग्रवाल, उपनिदेशक पंकज कुमार, परियोजना उपनिदेशक यू. के डब्लू.डी.पी संजीव कुमार, परियोजना प्रवन्धक यू.के.एस.डी.एम  राजेन्द्र वल्दिया आदि उपस्थित रहें

Leave a Reply

Your email address will not be published.