हरिद्वार-पुलिस उपमहानिरीक्षक/एसएसपी हरिद्वार  द्वारा पुलिस जवानों का मासिक सैनिक सम्मेलन व पुलिस अधिकारियों के साथ मासिक अपराध समीक्षा बैठक करते हुए दिए आवश्यक दिशा निर्देशः-  एस एस पी  योगेन्द्र सिंह रावत ने  पुलिस लाईन रोशनाबाद के सभागार में जनपद पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों की समस्याओ के दृष्टीगत मासिक सम्मेलन आयोजित किया गया। महोदय द्वारा सर्वप्रथम बैठक में उपस्थित सभी  अधिकारी एवं कर्मचारीगण को सतर्क रहते हुए कठिन परिश्रम व आपसी समन्वय बनाते हुए विधानसभा चुनाव एवं मतगणना को सकुशल सम्पन्न कराये जाने हेतु बधाई दी गयी। तत्पश्चात सम्मेलन में उपस्थितं कुछ कर्मचारियों द्वारा अपनी व्यक्तिगत समस्या को बताया गया जिसका   समाधान किये जाने हेतु सम्बन्धित को निर्देशित किया गया।

 कोविड प्रतिबंधों के घटने के पश्चात आगामी चारधाम यात्रा हेतु अधिक संख्या में श्रद्धालुओं के आने की संभावना के दृष्टिगत पुलिस अधीक्षक यातायात/अपराध के निर्देशन में यातायात व्यवस्थाओं को दुरुस्त कर यात्रा के दौरान दुर्घटना संभावित क्षेत्र में विशेष सतर्कता बरतने के साथ-साथ सुव्यवस्थित यातायात प्लान लागू करते हुए सुचारू रुप से यातायात संचालित किए जाने के निर्देश दिए गए ताकि चारधाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की अनावश्यक समस्या का सामना ना करना पड़े।

गोष्ठी के दौरान पुलिस अधीक्षक यातायात/अपराध द्वारा सड़क दुर्घटना बचाव एंव अपराधों के खुलासे में सहायक i-RAD, Uttarakhand Traffic Eyes App, गोष्ठी के दौरान पुलिस अधीक्षक यातायात/अपराध द्वारा सड़क दुर्घटना बचाव एंव अपराधों के खुलासे में सहायक (Solatium Scheme), सड़क दुर्घटनाओं में Motor Accidents Claims Tribunal (MACT) तथा बीमा कम्पनी को रिपोर्ट प्रेषित किये जाने सम्बन्धित जानकारी विस्तृत/ तकनीकी रुप से प्रदान करते हुए यातायात पुलिस व थानाध्यक्षों को अपने-अपने स्तर से आम जनता तक प्रचार प्रसार करने हेतु निर्देशित किया गया।साथ ही चालान बुक की जगह चालान मशीन द्वारा यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध कार्यवाही किए जाने के सम्बन्ध में भी स्पष्ट रुप से निर्देशित किया गया ताकि यातायात नियमों के पालन में की जा रही कार्यवाही में पारदर्शिता बनी रहे। साथ ही जनपद के सभी प्रभारी निरीक्षक/थानाध्यक्षों को निर्देशित किया गया कि वह राजस्व एंव सम्बन्धित अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर राष्ट्रीय राजमार्ग एवं एवं सम्पर्क मार्गों से अतिक्रमण स्थलों को समय से चिन्हित करते हुए अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही अमल में लाएंगे जिससे जाम की स्थिती उत्पन्न ना हो। साथ ही अपने अपने क्षेत्रों में लगातार गश्त, पी-केट एवं बैरियर्स पर चैकिंग निरंतर जारी रखें तथा समय समय पर सम्बन्धित क्षेत्राधिकारी भी चैकिंग करते हुए उक्त कर्मचारियों का मार्गदर्शन करना सुनिश्चित करेंगे। साथ ही यात्रा सीजन में रोजगार एवं व्यवसाय हेतु बाहरी लोगों का हरिद्वार क्षेत्र में आवागमन बढ जाता है जिसे ध्यान में रख अपने अपने थाना क्षेत्रों में समय निर्धारित कर कम्पनी, होटल व्यवसायियों का निरंतर सत्यापन अभियान चलाया जाए।

सीएफओ एवं समस्त एफएसओ को फायर सीजन/चारधाम यात्रा के दृष्टिगत एलर्ट मोड़ पर रहने के निर्देश दिए गए ताकि किसी भी प्रकार की वनाग्नि एवं बाजार क्षेत्र में आग लगने की घटना होने पर जल्द रिस्पांस देकर नुकसान को कम से कम किया जा सके।

जनपद के विभिन्न थानो में दर्ज अभियोगों के सम्बन्ध में बात करते हुए  विवेचकों को नवीनतम तकनीक का सहारा लेते हुए केस डायरी को ऑनलाइन करने के साथ-साथ पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर समय से विवेचनाओं एंव लम्बित प्रार्थना पत्रों का निष्तारण किया जाए ताकि पीड़ितों को न्याय मिल सके। प्रभारी निरीक्षक कनखल, प्रभारी निरीक्षक मंगलौर, थानाध्यक्ष बहादराबाद, थानाध्यक्ष भगवानपुर, एसआईएस द्वारा की जा रही विवेचना की धीमी गति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए महोदय द्वारा लम्बित विवचनाओं को निर्धारित समय में पूर्ण कर अवगत कराने के भी निर्देश दिए गए। साथ ही चुनाव के दौरान थाना स्तर पर विवेचकों के पास काफी सारी जांचे एवं विवेचनाएं लम्बित चल रही हैं जिन्हे सम्बन्धित क्षेत्राधिकारी अपने निकट परिवेक्षण में कम से कम समय में गुण-दोष के आधार पर निस्तारण करते हुए अनुपालन से अवगत कराएंगे। यह भी संज्ञान में आया है कि कतिपय विवेचनाओं में विवेचकों के स्थानान्तरण होने पर उनके द्वारा अभियोग सम्बन्धित कागजात थाने में जमा नही किए गये हैं जो कार्य के प्रति लापरवाही एवं उदासीनता का प्रतीक है। सभी प्रभारी निरीक्षक/थानाध्यक्ष अपने अपने थाने के प्रत्येक कर्मी का ध्यान रखे तथा प्रत्येक कर्मी को टास्क देकर उसके कार्यो का समय-समय पर पर्यवेक्षक करते रहे जिससे की सभी लोग जनहित में योगदान देते रहे।

क्षेत्राधिकारियों द्वारा थाना स्तर पर ओआर बहुत कम लिए जा रहे हैं जिससे थाना स्तर पर लम्बित विवेचनाओं/जांचों का निस्तारण निर्धारित समयावधि में नही हो पा रहा है। समस्त क्षेत्राधिकारियों को यह निर्देशित किया जाता है कि वह अपने अपने सर्किल में ओआर रोस्टर तैयार कर हल्का/चैकी वार ओआर लेते हुए विवेचनाओं का निस्तारण कराएं। सही तरीके विवेचना सम्पादित ना करने वाले विवेचकों की लिखित रिपोर्ट मेरे सम्मुख प्रेषित की जाए।

बैठक के दौरान समस्त पुलिस अधीक्षक/ समस्त क्षेत्राधिकारी / सीएफओ / समस्त प्रभारी निरीक्षक/ थानाध्यक्ष एंव अन्य पुलिस अधिकारी एंव कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.