हरिद्वार– मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के शपथ ग्रहण के पश्चात अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के पदाधिकारियों ने उन्हें शुभकामनाएं प्रदान करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। प्रैस को जारी बयान में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री एवं श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्र दास महाराज ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में उत्तराखंड का चहुमुखी विकास होगा और प्रदेश की उन्नति होगी। भाजपा सरकार सभी वर्गों की हितेषी है और विकास के मॉडल पर कार्य कर रही है। जिसका लाभ भी उन्हें मिल रहा है। उत्तराखंड की जनता ने पुष्कर सिंह धामी पर दोबारा विश्वास जताया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के मार्गदर्शन में पुष्कर सिंह धामी अपनी कुशल कार्यशैली के माध्यम से उत्तराखंड से पलायन रोकेंगे और युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराकर प्रदेश के विकास के लिए नई योजनाएं लागू करेंगे। ऐसी सभी को उनसे आशा है। युवा और ऊर्जावान धामी ने कम समय में मुख्यमंत्री रहते उत्तराखंड की जनता का दिल जीता है। जिसके परिणाम स्वरूप उन्हें दोबारा मुख्यमंत्री बनाया गया है। संतों के आशीर्वाद और जनता के प्यार से पुष्कर सिंह धामी मुख्यमंत्री के रूप में देवभूमि उत्तराखंड का नाम रोशन करेंगे और केंद्र एवं राज्य दोनों के समन्वय का लाभ भी उन्हें प्राप्त होगा। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज एवं अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष महंत जसविन्दर सिंह महाराज ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि युवा मुख्यमंत्री पुष्करसिंह धामी संतों के प्रेमी हैं। संत आशीर्वाद से मुख्यमंत्री पुष्करसिंह धामी जनता की उम्मीदों पर पूरी तरह खरा उतरेंगे। महंत विष्णु दास, महंत गोविंद दास, महंत प्रह्लाद दास, बाबा हठयोगी, महंत गुरमीत सिंह,महंत रघुवीर दास, महंत बिहारी शरण, ज्ञानगंगा गौशाला के अध्यक्ष महंत रामदास, स्वामी रविदेव शास्त्री, स्वामी हरिहरानंद, महंत निर्मल दास, महंत जसविंदर सिंह, महंत अमनदीप सिंह, स्वामी गंगादास उदासीन, महामनीषी निरंजन स्वामी, महंत रामानंद सरस्वती, महंत दुर्गादास, महंत सूरज दास सहित अनेक संतों ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को दोबारा मुख्यमंत्री बनने पर शुभकामनाएं प्रदान की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.