हरिद्वार-श्री यतीश्वरानन्द मा0मंत्री, भाषा, पुनर्गठन, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग तथा ग्राम्य विकास ने शनिवार को विकास खण्ड रूड़की में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत संचालित हिलांस कैण्टीन एवं पुस्तकालय के सुदृढ़ीकरण एवं क्रियान्वयन कार्य का, फीता काटकर पुष्पवर्षा एवं मंत्रोच्चारण के बीच लोकार्पण किया।
मा0 ग्राम्य विकास मंत्री श्री यतीश्वरानन्द ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये कहा कि आज ब्लाक रूड़की में जो कैण्टीन व लाइब्रेरी का शुभारम्भ किया गया है, इससे हजारों लोग जो यहां आते हैं, उन्हें नास्ते की व्यवस्था तथा प्रतियोगिता की तैयारी कर रहे बच्चों को पठन-पाठन की सामग्री उपलब्ध होगी तथा समूह से जुड़ी हुई माताओं व बहनों को रोजगार भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि लगभग पौन तीन लाख महिलायें स्वयं सहायता समूह से जुड़ी हैं। उन्होंने कहा कि हमारा मुख्य ध्येय माताओं व बहनों को स्वावलम्बी बनाना है।
श्री यतीश्वरानन्द ने इस मौके पर स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाये गये उत्पादों का जिक्र करते हुये कहा कि इनके द्वारा जो भी उत्पाद बनाये जाते हैं, वे काफी गुणवत्तापरक हैं, लेकिन इनका प्रचार-प्रसार व मार्केटिंग की सही व्यवस्था न हो पाने के कारण, इनकी उतनी बिक्री नहीं हो पाती है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार का प्रयास है कि इनके उत्पादों की बाजार में अधिक से अधिक बिक्री हो तथा  बड़ी-बड़ी कम्पनियों के साथ इनका अनुबन्ध किया जाये, जिससे इनका मनोबल बढ़ने के साथ ही दिन-प्रतिदिन इनके उत्पादों की गुणवत्ता भी बढ़ती चली जाये।
ग्राम्य विकास मंत्री ने बताया कि स्वयं सहायता समूहों द्वारा कोराना काल में बैंकों से जो ऋण लिया था, उसके ब्याज को हमारी सरकार ने माफ कर दिया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार हर महीने दो हजार रूपये ग्राम समूहों को अनुदान के रूप में छह महीने तक देगी। उन्होंने कहा कि इस प्रकार इन कलस्टरों को मजबूत करने का काम हमारी सरकार कर रही है।
श्री यतीश्वरानन्द ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, मनरेगा, उत्तराखण्ड का पलायन रोकना, गांवों में बिजली,पानी की व्यवस्था करना आदि के कार्य में हमारी सरकार निरन्तर प्रयासरत है। उन्होंने मा0 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जिक्र करते हुये कहा कि गांवों की आर्थिकी को मजबूत करने के लिये उनका विशेष प्रयास है।  
मा0 कैबिनेट मंत्री ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि हमारी सरकार द्वारा जो भी योजनायें चलाई जा रही हैं, आप उन योजनाओं का पूरा-पूरा लाभ उठायेंगे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि हमारी सरकार द्वारा जितनी भी योजनायें चलाई जा रही है, उन योजनाओं की जानकारी सभी को होनी चाहिये। उन्होंने यह भी कहा कि हर गांव में इन योजनाओं का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार होना चाहिये।
श्री यतीश्वरानन्द ने कैण्टीन व लाइब्रेरी का जिक्र करते हुये अधिकारियों को निर्देश दिये कि इस कैण्टीन व लाइब्रेरी का पूरे शहर में जोर-शोर से व्यापक प्रचार-प्रसार होना चाहिये ताकि अधिक से अधिक लोगों को इस कैण्टीन व लाइब्रेरी के बारे में जानकारी हो, जिससे वे ज्ञानार्जन के साथ ही कैण्टीन में बने व्यंजनों का लुत्फ भी उठायें और राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में अपनी सहभागिता दर्ज करा सकें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि इस लाइब्रेरी व कैण्टीन के खुलने व बन्द होने के समय के सम्बन्ध में भी लोगों को पूरी जानकारी होनी चाहिये तथा लाइब्रेरी व कैण्टीन के संचालन के लिये जो भी नियम हैं, उनका कड़ाई से पालन होना चाहिये।
मुख्य विकास अधिकारी डाॅ0 सौरभ गहरवार ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये बताया कि इस लाइब्रेरी तथा कैण्टीन के सुदृढ़ीकरण एवं क्रियान्वयन के कार्य में साढ़े तेरह लाख रूपये का व्यय हुआ है तथा इनके संचालन की पूरी व्यवस्था कर ली गयी है। उन्होंने यह भी बताया कि परीक्षण के तौर पर पिछले पांच दिवसों में इस कैण्टीन की चार से पांच हजार प्रतिदिन की आय हो रही है तथा आने वाले समय में यह एक महत्वपूर्ण केन्द्र बनेगा।
मा0 ग्राम्य विकास मंत्री ने पुस्तकालय का निरीक्षण करने के पश्चात माताओं व बहनों द्वारा बनाये गये कैण्टीन के व्यंजनों के बारे में विस्तृत जानकारी ली तथा व्यंजनों का स्वाद चखते हुये व्यंजनों की भूरि-भूरि प्रशंसा की।
हिलांस कैण्टीन एवं पुस्तकालय परिसर पहुंचने पर मा0 मंत्री श्री यतीश्वरानन्द का पुष्पगुच्छ भेंटकर भव्य स्वागत व अभिनन्दन किया गया।
इस अवसर पर रूड़की विधायक श्री प्रदीप बत्रा, जिला महामंत्री भाजपा श्री अजय सैनी, चेयरमैन गन्ना समिति श्री सुशील राठी, श्री ऋषिपाल बालियान, ब्लाक मिशन मैनेजर सुश्री रोमा सैनी, खण्ड विकास अधिकारी श्री शिव प्रसाद थपलियाल, एडीओ पंचायत श्री विजेन्द्र सैनी, हिलांस लाइब्रेरी एवं कैण्टीन के संचालक सहित सम्बन्धित विभागों के पदाधिकारीगण/अधिकारीगण उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published.