हरिद्वार समाचार– जिलाधिकारी श्री विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में सोमवार को विकास भवन सभागार में बाल/किशोर श्रम उन्मूलन हेतु गठित जिला टास्क फोर्स समिति की बैठक आयोजित हुई।
बैठक में जिलाधिकारी श्री विनय शंकर पाण्डेय ने जनपद में बाल/किशोर श्रम की वर्तमान क्या स्थिति है, के सम्बन्ध विस्तृत जानकारी ली। इस पर श्रम विभाग के अधिकारियों ने जिलाधिकारी को बताया कि अधिकतर ईंट भट्ठों में बाल/किशोर श्रम की समस्या रहती है। इस पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि ईंट भट्टों का निरन्तर निरीक्षण करते रहें तथा ऐसे ईंट भट्टों/उद्योगों के खिलाफ सख्त से सख्त नियमानुसार कार्रवाई करें।
श्री विनय शंकर पाण्डेय ने अधिकारियों को ये भी निर्देश दिये कि बाल/किशोर श्रम को रोकने के लिये स्पष्ट सन्देशों/श्रम कानूनों में, बाल/किशोर श्रम रोकने के लिये क्या व्यवस्था है, को इंगित करते हुये विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों सहित जगह-जगह फ्लैक्स/पोस्टर लगवाना सुनिश्चित करें।
श्रम विभाग के अधिकारियों ने जिलाधिकारी को यह भी बताया कि कई बाल श्रमिकों को ईंट भट्ठा आदि से हटाकर स्कूलों में प्रवेश दिलाया गया है। भारत सरकार के पेन्सिल पोर्टल का जिक्र करते हुये अधिकारियों ने बताया कि इस पोर्टल पर जनपद की बाल/किशोर श्रम के सम्बन्ध में कोई भी शिकायत दर्ज नहीं है। इस पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि इस पोर्टल का भी उल्लेख फ्लैक्स/पोस्टर में करते हुये इसका विभिन्न माध्यम से प्रचार-प्रसार करना सुनिश्चित करें।
जिलाधिकारी ने श्रम विभाग के अधिकारियों से पुलिस के साथ समन्वय के बारे में पूछा तो अधिकारियों ने बताया कि पुलिस विभाग का इसमें पूरा सहयोग मिलता है।
इस अवसर पर सीओ सिटी श्री अभय सिंह, सहायक नगर आयुक्त श्री तनवीर सिंह, सीडब्ल्यूसी सदस्य सुश्री रंजना शर्मा, सीडब्ल्यूसी से श्री विनोद शर्मा,टास्क फोर्स सदस्य श्री दिनेश कुमार शर्मा, बधुवा मजदूर संघ प्रतिनिधि श्री ब्रह्मानन्द, शिक्षा विभाग से अमरीष चैहान, डाॅ0 रविन्द्र चैहान, समाज कल्याण से श्री नरेश धारखोली, एडवोकेट सुश्री संगीता, श्री ए0एम0 जकमोला, श्री वी0के0 शर्मा सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण, विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधिगण आदि उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published.