हरिद्वार– जिलाधिकारी श्री विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में कांवड़ मेला-2022 की तैयारियों के सम्बन्ध में एक बैठक आयोजित हुई।
बैठक में जिलाधिकारी श्री विनय शंकर पाण्डेय ने कहा कि विगत दो वर्षों में कोविड-19 की वजह से कांवड़ यात्रा में व्यवधान की स्थिति उत्पन्न हई थी। इस वर्ष आगामी जुलाई माह में होने वाले कांवड़ मेले में काफी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की सम्भावना है। उन्होंने कहा कि पूर्व में जिन अधिकारियों ने कांवड़ मेले में योगदान दिया है, उन अधिकारियों के अनुभवों का लाभ लेते हुये सभी विभागों के अधिकारी कांवड़ मेले की तैयारी में अभी से जुट जायें।
बैठक में कांवड़ मेले के दौरान कानून-व्यवस्था, किन-किन स्थानों पर अधिक भीड़ होती है, कौन सा क्षेत्र जीरो जोन में आयेगा, गाड़ियों के पार्किंग की कहां-कहां व्यवस्था की जानी है, यातायात व्यवस्था, जल पुलिस की व्यवस्था, अवस्थापना सुविधाओं का विकास, किन रूटों से कावंड़िये अधिक से अधिक संख्या में हरिद्वार में प्रवेश करते हैं, के सम्बन्ध में विस्तृत विचार-विमर्श हुआ।  
कांवड़ मेला-2022 की तैयारियों की बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ0 योगेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि इस बार कांवड़ मेले में काफी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की सम्भावनायें हैं। इसे देखते हुये हमें अवस्थापना सम्बन्धी सुविधाओं पर ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि कांवड़ पट्टी के अलावा हमें हाईव के आउट वे लेन पर भी विशेष ध्यान देना है।
जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे कावंड़ पट्टी सहित कांवड़ यात्रा में इस्तेमाल होने वाली सड़कों का अच्छी तरह से निरीक्षण कर लें तथा अपनी सर्वे रिपोर्ट एक सप्ताह के भीतर उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। बरसात का जिक्र करते हुये गाड़ियों के पार्किंग के सम्बन्ध में उन्होंने कहा कि जहां-जहां गाड़ियां पार्क होंगी, उनके प्रवेश तथा निकास द्वार को पक्का करने के साथ ही प्रत्येक पार्किंग स्थल पर एक जे0सी0बी0 की भी व्यवस्था करना सुनिश्चित करें ताकि पार्किंग में गाड़ियों के संचालन में कोई दिक्कत न हो।  उन्होंने पेयजल विभाग के अधिकारियों से कांवड़ मेले के दौरान पेयजल की क्या व्यवस्था रहेगी, के सम्बन्ध में पूरी जानकारी ली। इस पर पेयजल विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हर 500 मीटर की दूरी पर पानी की व्यवस्था की जायेगी। इस पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को ये भी निर्देश दिये कि नारसन से हरिद्वार तक तथा भगवानपुर से हरिद्वार तक के मार्ग पर भी पानी की समुचित व्यवस्था करें।  उन्होंने निर्देश दिये कि जहां-जहां हैण्डपम्प लगे हैं, उनकी जांच कर लें तथा किन-किन स्थानों पर टैंकर स्थापित किये जाने हैं, उनका खाका तैयार कर लें। पेयजल विभाग के अधिकारियों ने कहा कि पानी की कहीं पर भी कोई दिक्कत नहीं आयेगी।
बैठक में जिलाधिकारी ने अधिकारियों से शौचालयों के सम्बन्ध में जानकारी ली। इस पर अधिकारियों ने जिलाधिकारी को बताया कि कांवड़ के दौरान किन-किन विभागों द्वारा शौचालयों की व्यवस्था की जाती है। इस पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि समय पर टेण्डर आमन्त्रित करते हुये सभी व्यवस्थायें कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने ये भी निर्देश दिये कि जो भी शौचालय स्थापित किये जायें, उनमें साफ-सफाई की पूरी व्यवस्था होनी चाहिये।
जिलाधिकारी ने बैठक में विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे कांवड़ यात्रा वाले मार्ग पर प्रकाश की समुचित व्यवस्था करने के साथ ही लाउड स्पीकर की भी व्यवस्था करें। उन्होंने ये भी निर्देश दिये कि विद्युत के कोई भी तार झूलते हुये नजर नहीं आने चाहिये तथा जहां पर खतरे की संभावनायें हों, वहां पर ’’खतरे ’’का साइन बोर्ड अवश्य लगायें। सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुये उन्होंने कहा कि घाटों की जहां-जहां मरम्मत होनी है, उसे समय पर पूर्ण करा लें, जहां पर चेन स्थापित हैं, वहां उनकी जांच कर लें तथा जहां पर चेन लगाने की आवश्यकता है, वहां चेन स्थापित कर लें तथा कहीं पर अगर अतिक्रमण है, तो उसे हटाना सुनिश्चित करें। एनएचआई के अधिकारियों को निर्देशित करते हुये उन्होंने कहा कि एन0एच0 पर सफाई की व्यवस्था के साथ ही कहीं पर अगर पेड़ व झाड़ियां उगी हैं, तो उन्हें हटाना भी सुनिश्चित करें।
सफाई-व्यवस्था का जिक्र करते हुये जिलाधिकारी ने नगर निगम व अन्य सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि साफ-सफाई की व्यवस्था में कहीं कोई कमी नहीं रहनी चाहिये। इसके लिये उन्हें सफाई कर्मियों के साथ ही जो भी संसाधनों की आवश्यकता है, वे उन्हें लेना सुनिश्चित करें।
बैठक में जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी से स्वास्थ्य की व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में जानकारी ली। जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे जो भी व्यवस्था करनी है, उसके लिये समय पर टेण्डर करना सुनिश्चित करें। उन्होंने ये भी निर्देश दिये कि कांवड़ मेले के दौरान सांप व कुत्तों से काटने की घटनायें भी सामने आती हैं, इसे देखते हुये अस्पतालों में इलाज की समुचित व्यवस्था करना सुनिश्चित करें। उन्होंने खाद्य सुरक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि वे खाद्य वस्तुओं में मिलावट की रोकथाम के लिये अधिक से अधिक सैम्पलिंग करना सुनिश्चित करते हुये, उसकी रिपोर्ट उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। इसके अलावा उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे जहां पर आवश्यकता है, वहां पर पेड़ों की छंटाई करना सुनिश्चित करें।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 सौरभ गहरवार, अपर जिलाधिकारी(वित्त एवं राजस्व) श्री वीर सिंह बुदियाल, अपर जिलाधिकारी(प्रशासन) श्री पी0एल0 शाह, सचिव एचआरडीए श्री उत्तम सिंह चौहान, संयुक्त मजिस्ट्रेट रूड़की श्री अंशुल सिंह, एमएनए श्री दयानन्द सरस्वती, एसडीएम लक्सर श्री गोपाल राम बिनवाल, उप जिलाधिकारी श्री पूरण सिंह राणा, एस0डी0एम भगवानपुर श्री बृजेश कुमार तिवारी, भूमि अध्याप्ति अधिकारी श्री वैभव गुप्ता, उप जिलाधिकारी सुश्री नूपुर वर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 कुमार खगेन्द्र, सचिव रेडक्रास डॉ0 नरेश चौधरी, एसपी देहात श्री पी0एस0 डोभाल, जिला पर्यटन अधिकारी श्री सुरेश सिंह यादव, आपदा प्रबन्धन अधिकारी सुश्री मीरा कैन्तुरा, ई0ई0 जल संस्थान श्री मदन सेन, अधिशासी अभियन्ता जल निगम श्री मो0 मीसम, खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्री आर0एस0 पाल, डीएसओ श्री के0के0 अग्रवाल सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.