हरिद्वार समाचार– चंडी चैदस के पावन अवसर पर निरंजनी अखाड़े के सचिव एवं मां मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमहंत रवींद्र पुरी महाराज ने नील पर्वत स्थित सिद्ध स्थल मां चंडी देवी मंदिर पहुंचकर महंत रोहित गिरी महाराज के सानिध्य में मां चंडी देवी की पूजा अर्चना की और हवन यज्ञ कर विश्व कल्याण की कामना की और मां चंडी देवी से कोरोना महामारी समाप्त होने की प्रार्थना की। श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए मां चंडी देवी मंदिर परमार्थ ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रोहित गिरी महाराज ने कहा कि मां चंडी देवी भक्तों को सुख समृद्धि प्रदान करने वाली है। मां की उपासना से प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में अपार खुशियां आती हैं और आनंद एवं सुख की अनुभूति होती है। क्योंकि मां चंडी देवी ममतामई हैं। जो अपने भक्तों की सूक्ष्म अराधना से ही प्रसन्न होकर उन्हें मनोवांछित फल प्रदान करती हैं। महंत रोहित गिरी महाराज ने कहा कि श्रद्धा पूर्वक मां की आराधना करने वाले श्रद्धालु भक्तों का कल्याण अवश्य ही निश्चित है। देवभूमि उत्तराखंड की पावन धरा पर और पतित पावनी मां गंगा के सानिध्य में जो श्रद्धालु भक्त मां की कृपा का पात्र बन जाता है। उसका जीवन भवसागर से पार हो जाता है। श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज ने कहा कि सब के दुखों को हरने वाली मां चंडी देवी परम कल्याणकारी है। जिन की आराधना से व्यक्ति आत्मशक्ति और मानसिक सत्य को प्राप्त कर सकता है। मां की अराधना हमें यश वैभव और वैराग्य प्रदान करती है और जीवन में उत्तम चरित्र का निर्माण होता है। श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज ने कहा कि चंडी चैदस को देवी मां की आराधना करने से भगवान विष्णु का भी आशीर्वाद भक्तों को प्राप्त होता है और समस्त मनोकामनाएं स्वतः ही पूर्ण हो जाती हैं। एक समृद्ध और शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए मां भगवती का आशीर्वाद अत्यंत आवश्यक है। तभी व्यक्ति अपार सफलताओं को प्राप्त कर सकता है और उसके सभी मनोरथ पूर्ण हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि मां भगवती के आशीर्वाद से जल्द ही कोरोना महामारी समाप्त हो ऐसी सभी की प्रार्थना है। लेकिन जब तक पूर्ण रूप से कोरोना का खतरा समाप्त नहीं हो जाता तब तक सभी को सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस का पालन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि महंत रोहित गिरी पर मां चंडी देवी की अपार कृपा है। महंत रोहित गिरी के सानिध्य में मंदिर का लगातार विकास हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.