हरिद्वार, 1 अगस्त। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा है कि श्रावण मास में भगवान शिव की अर्चना करने से धरती पर सभी दुखों का शमन होता है। क्योंकि श्री ब्रह्मा श्री विष्णु इंद्र शिव आदि सभी सावन में पृथ्वी पर ही वास करते हैं और अलग-अलग रूपों में अनेकों प्रकार से शिव आराधना करते हैं। इस माह में की गई शिव पूजा तत्काल शुभ फलदाई होती है। क्योंकि इसके पीछे स्वयं शिव का वरदान होता है। कनखल स्थित दक्षेश्वर महादेव मंदिर में शिव आराधना के दौरान श्रद्धालु भक्तों को भगवान शिव की महिमा का महत्व समझाते हुए श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा कि भगवान शिव पर बेलपत्र भांग धतूरा आदि अर्पित करने से भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं। भगवान शिव मृत्युंजय हैं। इनकी आराधना अकाल मृत्यु के भय से मुक्त करती है और सदैव रोगमुक्त भी रखती है। उन्होंने कहा कि भगवान शिव मोक्ष के अधिष्ठाता हैं। इसलिए मोक्ष की कामना से भी इनकी भक्ति करनी चाहिए। भगवान शिव इतने भोले हैं कि वह सर्वस्व निछावर कर देते हैं। जो श्रद्धालु भक्त भगवान शिव के दरबार में आ जाता है उसका कल्याण स्वयं ही निश्चित हो जाता है। श्रीमहंत रवींद्र पुरी महाराज ने कहा कि भगवान शिव संपूर्ण स्वरूप है। इसलिए इनकी अराधना जीवन पर्यंत की जाती है। शिव आराधना से व्यक्ति अपने इष्ट के दर्शन पाकर धन्य हो जाता है और उसके सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। इसलिए शिव आराधना सदैव हितकारी है। दक्षेश्वर महादेव की आराधना से शिव और शक्ति दोनों प्रसन्न होते हैं और इनकी कृपा से दैविक दैहिक और भौतिक कष्टों से मुक्ति मिलती है। इसलिए सावन में जब भी समय मिले पूरी आस्था और सात्विकता के साथ शिव आराधना करें। ऐसा करने से व्यक्ति का जीवन सदैव उन्नति की ओर अग्रसर रहता है और सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.