हरिद्वार समाचार-वैष्णव संप्रदाय के संतों ने नील पर्वत स्थित सिद्ध स्थल मां चंडी देवी मंदिर में पूजा अर्चना कर देश की खुशहाली की कामना की। इस दौरान मंदिर के परमाध्यक्ष महंत रोहित गिरी महाराज ने सभी संतो को माता की चुनरी और नारियल भेंट कर उनका स्वागत किया। इस अवसर पर अखिल भारतीय श्री पंच निर्माेही अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्र दास महाराज ने कहा कि मां चंडी देवी मंदिर पौराणिक सिद्ध स्थल है। जहां आने वाले प्रत्येक श्रद्धालु भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण होती है। अपनी शरण में आने वाले प्रत्येक भक्तों का संरक्षण कर मां चंडी देवी उसे सुख समृद्धि प्रदान करती है। महंत रोहित गिरी महाराज अनेक वर्षों से मंदिर की व्यवस्था को भली-भांति संभाल रहे हैं और अनेकों सेवा प्रकल्प चलाकर समाज को सेवा का संदेश भी प्रदान कर रहे हैं। अखिल भारतीय श्री पंच निर्वाणी अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत धर्मदास महाराज ने कहा कि धार्मिक अनुष्ठानों से देश में नई ऊर्जा का संचार होता है। सिद्ध स्थल मां चंडी देवी मंदिर भारत सहित विश्व विख्यात है। जहां देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु भक्त अपनी मनोकामनाएं लेकर आते हैं। मां चंडी देवी अपने भक्तजनों का उद्धार करती है। साथ ही भक्तों को पतित पावनी मां गंगा की भी असीम कृपा प्राप्त होती है। मां चंडी देवी मंदिर के अध्यक्ष महंत रोहित गिरी महाराज ने कहा कि वैष्णव अखाड़ों की गौरवशाली परंपराएं विश्व विख्यात हैं। श्रीमहंत धर्मदास महाराज एवं श्रीमहंत राजेंद्र दास महाराज अपने तप और विद्वत्ता के माध्यम से संपूर्ण भारत में भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म का प्रचार प्रसार कर भावी पीढ़ी को संस्कारवान बना रहे हैं। राष्ट्र निर्माण में उनका अतुल्य योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि वैष्णव संत राष्ट्र की धरोहर हैं। जिनकी अद्भुत पूजा पद्धति भारत को महान बनाती है। उन्होंने कहा कि मां चंडी देवी की असीम कृपा से कोरोना महामारी जल्द ही विश्व से समाप्त होगी और देश दुनिया में खुशहाली लौटेगी। इस दौरान श्रीमहंत रामकिशोर दास शास्त्री, महंत प्रहलादास, महंत विष्णुदास, महंत प्रेमदास, महंत गोविंदास, नागा महंत सुखदेव दास, महंत रघुवीर दास, महंत बिहारी शरण, महंत रामदास, विशाल भारद्वाज, मोहित राठौर आदि उपस्थित रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.