हरिद्वार: जिलाधिकारी/उपाध्यक्ष हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण श्री विनय शंकर पाण्डेय ने तहसील रूड़की क्षेत्रान्तर्गत पतंजलि तथा बढेड़ी राजपूतान आदि क्षेत्रों से मिल रही लगातार शिकायतों के दृष्टिगत इन क्षेत्रों का भौतिक निरीक्षण करने के लिये सचिव हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण की संयुक्त टीम के  साथ  भौतिक निरीक्षण करने के निर्देश दिये गये थे, जिसके क्रम में  सचिव हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण श्री उत्तम सिंह चौहान के नेतृत्व में उप जिलाधिकारी रूड़की श्री विजयनाथ शुक्ला सहित संयुक्त टीम ने इन क्षेत्रों का भौतिक निरीक्षण किया।
टीम ने भौतिक निरीक्षण के दौरान पाया कि बरसाना धाम, शान्तरशाह कालोनी अवैध रूप से विकसित है, जो कि लगभग 07-10 बीघा क्षेत्र में है तथा इसमें छोटे-छोटे भूखण्ड मौके पर हैं तथा 12 भवन निर्मित/ निर्माणाधीन हैं। निर्माणाधीन भवनों का मानचित्र स्वीकृत न होने की दशा में सील किये जाने के निर्देश दिये गये तथा आवासित भवनों को रिक्त किये जाने हेतु नोटिस निर्गत किये जाने के निर्देश दिये गये हैं। 
संयुक्त टीम इसके बाद हरिद्वार- दिल्ली महामार्ग पर आचार्यकुलम विश्वविद्यालय के सामने बन रहे भवन का भौतिक निरीक्षण करने पहुंची, जिसको नियमों का उल्लंघन करने की वजह से सील किये जाने के निर्देश मौके पर दिये गये। टीम निरीक्षण करते हुये सहदेवपुर मार्ग पहुंची, इस मार्ग पर अधिकतर निर्माण स्वीकृत हैं तथा अवर अभियन्ता संजीव अग्रवाल द्वारा अवगत कराया गया कि विचलन के विरूद्ध नोटिस निर्गत किये गये हैं। इसके अलावा सहदेवपुर मार्ग भू-विकासकर्ता श्री मोनू त्यागी की प्लाटिंग है, जिसका तलपट मानचित्र फेस-7  स्वीकृत है तथा इसके अतिरिक्त अन्य प्लाटिंग भी इस विकासतकर्ता की स्वीकृत है।
सचिव हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण की अध्यक्षता में गठित टीम ने निरीक्षण के दौरान पाया कि सहदेवपुर मार्ग, शान्तरशाह में पंतजलि संस्था द्वारा लगभग 08-10 बीघा भूमि में भवन/ संस्था बनाये जाने हेतु नींव का कार्य प्रारम्भ किया गया है। टीम ने बताया कि मानचित्र स्वीकृत नहीं होने की दशा में आवश्यक विधिक कार्यवाही के उच्चानिर्देश प्राप्त हुए हैं तथा इस क्षेत्र में चल रहे अवैध प्लाटिंग/ भवनों पर नियमानुसार कार्यवाही के निर्देश भी प्राप्त हुये हैं। 
मुख्य मार्ग हरिद्वार-दिल्ली महामार्ग के निरीक्षण के दौरान अवर अभियन्ता ने जानकारी दी कि इस मार्ग पर चल रहे निर्माणों के मानचित्र स्वीकृत हैं तथा  कुछ निर्माणों में विचलन का नोटिस निर्गत किया गया है एवं मुख्य मार्ग पर एक मिनी सिनेमा, 02 व्यवसायिक निर्माणाधीन हं,ै जिनके मानचित्र स्वीकृत हैं तथा आरोग्यम सोसायटी के पास सैकी त्यागी के नाम से ओ०टी०एस० में व्यवसायिक भवन स्वीकृत किया गया है।
बढेडी राजपूतान क्षेत्र के निरीक्षण के दौरान टीम ने पाया कि इस क्षेत्र में एक विला सोसायटी, जिसमें विलाओं का निर्माण निर्माणाधीन है, उसे मौके पर सील किया गया तथा इस क्षेत्र में कुछ अवैध भू-विकासकर्ताओं द्वारा प्लाटिंग की तैयारी की जा रही है, उनके विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये गये है।
संयुक्त टीम ने यह भी जानकारी दी कि अवर अभियन्ता व सहायक अभियन्ता की आख्या के अनुसार, पंतजलि, शान्तरशाह, बढेडी राजपूतान क्षेत्र में यू०सी०एम०एस० के अन्तर्गत 24 वाद आयोजित एवं विचाराधीन है इस क्षेत्र में निर्माणाधीन कुल 10 भवनों के मानचित्र स्वीकृत हैं। 
भौतिक निरीक्षण के दौरान टीम के सदस्य श्री विजयनाथ शुक्ला, उप जिलाधिकारी, श्री माधवानन्द जोशी, अधिशासी अभियन्ता, हरिद्वार-रुड़की विकास प्राधिकरण, श्री डी०एस०रावत, सहायक अभियन्ता, हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण, श्री संजीव अग्रवाल, अवर अभियन्ता, हरिद्वार-रुड़की विकास प्राधिकरण शामिल थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.