हरिद्वार समाचार-अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री एवं श्रीपंच निर्मोही अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज ने अखाड़ा परिषद के पूर्व अध्यक्ष ब्रह्मलीन श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज की संदिग्ध वीडियो देखने वाले हरिद्वार के दो व्यक्तियों के नाम का खुलासा ना होने पर सवाल खड़े किए हैं। प्रैस को जारी बयान में श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज सभी तेरह अखाड़ों के अध्यक्ष तथा संत समाज के लिए पूज्यनीय थे। उन्हें जिस वीडियो के वायरल करने की धमकी दी जा रही थी। उसका राज उजागर होना चाहिए। साथ ही वीडियो देखने वाले तथा श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज को वीडियो दिखाने वाले हरिद्वार के दो व्यक्तियों के नाम का खुलासा भी होना चाहिए। साथ ही सीबीआई यह भी स्पष्ट करे कि उस वीडियो को वायरल करने में उन दो व्यक्तियों की क्या भूमिका थी। यह भी हो सकता है कि उन दो व्यक्तियों द्वारा आनन्द गिरी के कहने पर ब्लैकमेल किया जा रहा हो। ऐसे लोगों पर सख्त से सख्त कार्रवाई हो उनका और चेहरा समाज के सामने उजागर हो। उन्होंने कहा कि ब्रह्मलीन श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज की संदिग्ध मौत से संत समाज की गरिमा को भी ठेस पहुंची है। सीबीआई को पूरा मामला साफ तौर पर उजागर करना चाहिए। ताकि असली दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो सके। उन्होंने कहा कि उस कथित वीडियो के माध्यम से ही ब्रह्मलीन श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज मानसिक तनाव में थे। इसलिए उस वीडियो को वायरल कर देने की धमकी देने वाले दोनो शख्स के नाम का खुलास हो और यदि उनकी भूमिका संदिग्ध पायी जाती है तो उनसे सख्ती से पूछताछ की जाए। ताकि सच्चाई समस्त समाज के सामने आ सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.