हरिद्वार-
उत्तराखण्ड क्रांति दल के हरिद्वार में केंद्रीय एवं जिला पदधिकारियों व
कार्यकर्ताओं ने सिटी मैजिस्ट्रेट अवधेश सिंह के माध्यम से उत्तराखण्ड के
मुख्यमंत्री जी को भेल सामुदायिक केंद्र के पूर्व उपाध्यक्ष एवं वर्तमान
सचिव द्वारा मिलिभगत से रामलीला की रसीदों, लैटरहैड व कार्डों पर फर्ज़ी
पता छ्पवा कर चंदा वसूली करने के फर्ज़ीबाडे मे लिप्तों पर कानूनी
कार्यवाही की मांग करते हुए ज्ञापन भेजा है।

भेल सामुदायिक केन्द्र के पूर्व उपाध्यक्ष द्वारा 2022 मे चुनी हुई नयी
कार्यकारिणी के सचिव को चंदा फर्ज़ीबाडे में साथ मिलाकर चंदा रसीदों,
कार्डों व लैटरहैडों पर फर्ज़ी पता छपवा कर के रामलीला के नाम पर चंदा
हरिद्वार भेल परिसर व साथ में लगे अन्य क्षेत्रों सुभाषनगर, शिवालिकनगर,
टिहरी विस्थापित, इंड्स्ट्रीयल एरिया बहादराबाद व हरिद्वार, सिडकुल,
हरिद्वार पंचपुरी से बीसियों लाख रूपयों का चंदा एकत्र किया जा रहा है
जबकि शायद दो से तीन लाख के मध्य ही व्यय होगा।

सामुदायिक केन्द्र के पूर्व उपाध्यक्ष यह काम 2018 से निर्बाध करते हुए
चले आ रहे हैं वे खुद ही अनुमति दाता और खुद ही निवेदक बने रहते थे
आश्चर्य यह भी है कि भेल हरिद्वार प्रबंध सब चुपचाप देखता रहता।

सामुदायिक केन्द्र के पूर्व उपाध्यक्ष ने अबतक तीन रामलीला समितियां
रजिस्टर्ड कराईं, जो साल दो साल चलाई और फिर नई रामलीला रजिस्टर्ड कराली।
वर्तमान में रामलीला नाट्य मंचन समिति 36 सी रोशनाबाद सलेमपुर महदूद
हरिद्वार 2019 में रजिस्टर्ड करायी परन्तु रजिस्टर्ड पता छुपा कर भेल
सैक्टर-4 पता छापा और पूर्व की भांति चंदा एकत्र कर रहे हैं।

रामलीला नाट्य मंचन समिति रामलीला आयोजन हेतु 2022 में मुख्यमंत्री जी को
मुख्य अतिथि भी दर्शाया गया है साथ ही हरिद्वार पंचपुरी के महात्माओं व
राजैतिक नेताओं विधायकों व सांसदों एवं भेल हरिद्वार अधिकारियों के नाम
भी छापे गये हैं ताकि अधिक से अधिक चंदा वसूली में सहायक हो सके और कोई
उंगली नही उठाई जा सकें।

इस फर्ज़ीबाडे पर रोक व उचित कार्यवाहीयों हेतु शिकायत व निवेदन पत्र
शासन-प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं भेल प्रबंधिका के अनेक स्तरों पर दिये
गये परन्तु फर्ज़ीबाडे में लिप्त महानुभावों पर कोई कार्यवाही नही किये
जाने से फर्ज़ी तरीके चंदा वसूली निर्बाध चल रही है।

उत्तराखंड क्रांति दल ने मुख्यमंत्री जी से मांग करी है कि जिलाधिकारी,
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद हरिद्वार से इस तरह की चंदा वसूली के गोरख
धन्दे मे लिप्त महानुभावों पर कानूनी कार्यवाही का आदेश देकर शीघ्र
कानूनी कार्यवाही करवायें ताकि मासुम नागरिकों से इस प्रकार भावनात्मक
भृमजाल में फंसा कर धन एकत्र करने वालों को सबक मिले।

ज्ञापन केंद्रीय पदाधिकारियों में रवीन्द्र वशिष्ठ, सरिता पुरोहित, जिला
प्रभारी चौधरी बृजवीर सिंह, जिला पदाधिकारियों में बल सिंह सैनी, रजत
शर्मा, जसवन्त सिंह बिष्ट, सुरेंद्र सिंह रावत, एड्वोकेट आशुतोष सोती,
रमेश कुमार धागर आदी ने दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.